September 23, 2021

MP Bharat

खबर जो आंखें खोल दे…

लक्षण वाले कोविड-19 मरीज के समान ही वायरस फैलाते हैं बिना लक्षण वाले मरीज

नई दिल्ली | मेडिकल जर्नल JAMA इंटरनल मेडिसिन में प्रकाशित एक दक्षिण कोरियाई अध्ययन में पाया गया है कि कोविड -19 के स्पर्शोन्मुख मरीज वायरस को लक्षण वाले मरीजों के समान ही फैलाते हैं। अध्ययन से पता चलता है कि स्पर्शोन्मुख लोग जो कोरोना वायरस से संक्रमित हैं, वे अपने नाक, गले और फेफड़ों में पैथोजंस के समान स्तर को लक्षणों के साथ ले जाते हैं। अध्ययन दक्षिण कोरिया में सूनचुन्यांग यूनिवर्सिटी कॉलेज ऑफ मेडिसिन के शोधकर्ताओं की एक टीम द्वारा किया गया था। विशेषज्ञों ने 6 मार्च से 26 मार्च के बीच 300 से अधिक रोगियों से लिए गए सैंपल का विश्लेषण किया। कुल 193 मरीज लक्षण वाले थे जबकि 110 स्पर्शोन्मुख थे। विशेषज्ञों के अनुसार, यह पाया गया कि SARS-CoV-2 संक्रमण वाले कई व्यक्ति लंबे समय तक स्पर्शोन्मुख रहे। इस प्रकार, अध्ययन में सभी संक्रमित व्यक्तियों को संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए लक्षणों की परवाह किए बिना क्वारंटाइन किए जाने का आह्वान किया गया है।

पूर्व-लक्षण वाले कोविड-19 रोगियों को स्पर्शोन्मुख लोगों के बीच अंतर करने के लिए अध्ययन भी पहले कुछ में से एक है। पहले, यह पाया गया कि अनुमानित 30 प्रतिशत कोविड -19 रोगियों में कभी लक्षण विकसित नहीं होते हैं। हालांकि, एसिम्प्टोमैटिक रोगियों को लक्षणों वाले रोगियों की तुलना में वायरस के लिए नकारात्मक परीक्षण करने की सूचना मिली। भारत अगस्त में दुनिया के सबसे बड़े कोविड-19 हॉटस्पॉट के रूप में उभर रहा है। भारत ने इस महीने में सबसे ज़्यादा नए मामले दर्ज किए हैं जो अमेरिका के मुकाबले कुछ और ब्राज़ील के मुकाबले बहुत अधिक हैं। अगस्त के शुरुआती दिनों में कोरोना से होने वाली मौतों के आँकड़ों में भारत दुनिया में तीसरे नंबर पर आ गया। राज्य सरकारों के मिले आंकड़ों के अनुसार कोरोना वायरस का कहर अब भी देश पर बना हुआ है। शुक्रवार को कोरोना के 60 हज़ार ताज़ा मामले सामने आए और 926 लोगों की कोरोना वायरस से मौत ही गई। एक दिन में महामारी से होने वाला ये अब तक का सबसे ज़्यादा नुकसान है। भारत में अगस्त के पहले छह दिनों में 3,28,903 नए कोरोनावायरस मामलों की सूचना मिली। अमेरिका में यही आंकड़ा 3,26,111 और ब्राजील में 2,51,264 था। भारत में अगस्त के चार दिनों में आए मामले दुनिया में सबसे ज़्यादा दर्ज किए गए। 2, 3, 5 और 6 अगस्त को भारत में सामने आए कोरोना के मामले दुनिया के सबसे ज़्यादा दैनिक मामले थे। गुरुवार को भारत ने 20 लाख का आंकड़ा पार किया। भारते में ये आंकड़ा तेज़ी से बढ़ रहा है। भारत में संक्रमण की वृद्धि दर 3.1% है जो अमेरिका और ब्राज़ील से अधिक है। हालांकि मौत के आंकड़े की बात करें तो अमेरिका और ब्राजील भारत से आगे हैं ब्राजील और अमेरिका दोनों ने अगस्त में अब तक कोरोना से होने वाली 6,000 से अधिक मौतें दर्ज की हैं जबकि भारत का आंकड़ा 5,075 ही रहा।